Sunday, March 1, 2009


52 comments:

  1. वाह,,,,,,,,,,, मजा आ गया,,,,,,,,,,,,,,,,,,लाजवाब,,,,,
    पूनम जी , मैं तो एक मामूली सा चित्रकार हूँ ,,,पर मैंने एक सवाल किया था,,आपकी बाग़ में बैठी हुई लड़की के बारे में,,,यानी इस से पहले वाली पेंटिंग के बारे में ,,,
    आपने कुछ बताया ही नहीं,,,,
    पर इस नए वाली को देखकर सच में बेहद अच्छा लगा,,,,,
    शानदार काम है,,,,,

    ReplyDelete
  2. बहुत दिनों के बाद नई प्रस्तुति आई आपकी. एक बार फिर बेहतरीन.बधाई.

    ReplyDelete
  3. बहुत शानदार पोस्ट आपने की है । बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत शानदार पोस्ट आपने की है । बधाई

    ReplyDelete
  5. okay
    i regularily finds many good paintings on net
    it can help you too
    your work is appriciable but still needs finishing nicely. ideas behind work.

    happy holi to you all

    ReplyDelete
  6. webduniya मुख पृष्ठ>>फोटो गैलरी>>धर्म संसार>>त्योहार>> होली के रंग भगोरिया के संग ! (Holi - Bhagoriya Festival Photogallery)
    log on kare aur
    bhagoriyaa ke drushyo se avgat ho le

    ReplyDelete
  7. achhi painting ke liye badhai....


    Jai Ho mangalmay ho..

    ReplyDelete
  8. nice painting...
    with different fancies of different viewers,
    depiction could be different...
    but one cant help saying...WOW !!
    C O N G R A T S
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  9. very nice painting...esme na koee shikwa na shikayat na gila hai.....

    ReplyDelete
  10. mujhe meri jindagi yahi dikhaai di ...kya karu...

    ReplyDelete
  11. आज पहली बार आपके ब्लौग पर आने का सुयोग हुआ...रंज हुआ खुद पर, कि पहले क्यों न आ सकी? जितनी भी तारीफ करूं,कम है.

    ReplyDelete
  12. I always love visiting your blog and check out the newer paintings... thanks a LOT LOT LOT for sharing all these with us... Keep painting and keep posting them ...

    I'm still enjoying my vacation. Spent sometime in writing this story. want you to read it and tell me how it is. Hope you like it.

    Mistake: A Scary reason @ Thus Wrote Tan!

    ReplyDelete
  13. Awesome painting...simply superb...

    ReplyDelete
  14. मैने कभी लगभग २० साल पहले एक कविता लिखी थी-आपकी चारकोल पेंटिग देख याद हो आई-कुछ पंक्‌तियां देखें

    चढ़े न दूजो रंग
    मेरा
    मन करता है
    मैं
    तुम्हारी
    एक तस्वीर बनाऊं
    काली-
    बहुत काली
    काजल सी काली
    सियाही से
    कितनी
    अद्भुत लगोगी तुम
    तब
    तुम्हारे चेहरे से
    बदलते रंग
    मेरे सिवा, कौन बूझ पाएगा
    आर्ट गैलरी
    के
    तन्हा कोने में लगी
    इस तस्वीर को
    कोई नहीं देखेगा

    पूरी मेरे ब्लॉग पर देखी जा सकती है

    ReplyDelete
  15. that's an awesome painting Poonam!!!

    ReplyDelete
  16. Bahut achhi hai, ek baat kehna chahonga hum jaise logo ko jinhe art ki itni samajh nahi hai unke liye bata dijye ki aapne kis terah ke color ya pencil istemaal karke banayi hai.

    Shayad kisi ko thora madam ho jaaye.

    ReplyDelete
  17. अद्भुत ..सुन्दर , बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  18. आपके हाथो ने एक खूबसूरत चित्र की प्रस्तुती की है...
    बधाई.....

    ReplyDelete
  19. कोई शब्द ही नहीं मिल रहे हैं आपकी प्रशंसा में....बहुत सुकून मिला आपके ब्लॉग पे आकर

    ReplyDelete
  20. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ कि आपको मेरी शायरी पसंद आई !
    मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा! बहुत बढ़िया पेंटिंग की है आपने!
    मेरे दूसरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है और मेरे ब्लॉग के फोल्लोवेर बन जाइये!

    ReplyDelete
  21. Poonam
    bahut sundr painting hai aapki. meri or mere pati dev Dr Narendra Singh bhi oil painting me ruchi rakhte hai. pradashniya bhi laga chuke hai. mere blog par meri photography dekh skti ho.
    kya me apni painting tumhare blog par dal sakti hu?
    Kiran Rajpurohit Nitila

    ReplyDelete
  22. mere kuchh shabd aapke es penting ke taarif me bahut kam lag raha hai

    ReplyDelete
  23. bahut der se aapki paintings dekh raha hoon ..is painting ne man ko kahin rok sa diya hai .. aap bahut accha paint karti hai ji ...aapki kpaintings ki expression bahut hi jaandar hai ..

    meri badhai sweekar kare,

    dhanyawad.

    vijay
    pls read my new poem :
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/05/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  24. HI! FRIEND! I VISIT YOUR BLOG ITS TOO MUCH INTERESTING

    PLEASE VISIT MY BLOGS

    http://www.onlinespacer.blogspot.com/
    http://www.worldofjewellery.blogspot.com/
    and
    http://www.oslinuxp.blogspot.com/

    These blogs are for charity donation for poor childern. The money that is earn from this blog which i completely spread into them. Please Please Please I again says that Please visit those blogs and click one google add (ads by google) and send me comments on it and follow my blog as a friend Because that question not for me its for humanity! :(

    ReplyDelete
  25. Nice expression..bahut bdhiya lagee apakee penting.
    Poonam

    ReplyDelete
  26. beautiful...and thank you for being their to support my blabbering...keep visiting... :-)

    ReplyDelete
  27. i request you to see my art blog :

    artofvijay.blogspot.com

    your valuable comments will guid me further.

    Thanks

    vijay

    ReplyDelete
  28. aapki paintings bahut khoobsoorat hai bas ek request hai...explain about depiction...I know everybody have different perception but painter's view matter.

    regards,

    priya

    ReplyDelete
  29. आपकी कला देखी, एक खास तरह का अहसास छुपाये है।

    मेरा एक साथी है वो जब पेंटिग बनाता है तो मैं उसे देखता रहता हूँ। ये अहसास बिलकुल ऐसा है जैसे कोई दिवाना अपनी धुन मे कुछ रच रहा है।

    क्या पेंटिग खुद मे कोई कहानी छुपाये रहती है?
    इसका अहसास कैसे हम करा सकते हैं?

    ReplyDelete
  30. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    ReplyDelete
  31. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    ReplyDelete
  32. एक बार जनसत्‍ता के संपादक ओम थानवी जी का लेख पढ़ा था। उसमें उन्‍होंने वॉन गॉग की पेंटिंग स्‍टारी नाइट और दूसरी कुछ पेंटिंग्‍स का विश्‍लेषण किया था। तब मुझे महसूस हुआ कि किसी पेंटिंग में देखने के लिए बहुत कुछ होता है बस आपको देखना आना चाहिए। आपकी पहली पेंटिंग में आपने महिला के बालों की लटों के बारे में जानकारी दी तो समझ में आ गया लेकिन इस पेंटिंग में आप क्‍या कहना चाहती हैं पल्‍ले नहीं पड़ा। कम से कम एक संकेत भी दिया गया होता तो बात समझ में आ जाती। लेकिन पेंटिंग अच्‍छी बनी से अधिक कुछ कहने लायक समझ में नहीं आया सो इस विनती के साथ अपनी बात खत्‍म करता हूं कि कुछ हिंट दें तो बात समझ लें। :)

    वरना वाह वाह तो ले ही लीजिए।

    ReplyDelete
  33. really nice painting aap ki painting dykhny waly ko relaxation dyti hy bohat kubsurat painting hy

    ReplyDelete
  34. bahut hi khoobsurat aur pyaara painting. kaaphi waqt laga hoga ise karne mein? bahut badiya.

    PS:comments post karna humare liye aasan karne ke liye krupaya Word verification nikaaliye

    ReplyDelete
  35. chitra to bana diya, jara iske baare mein bhi bata dejiye. Humein chitron mein interest jarur hai par samajh mein nahin aata ki jo bhav hamare man mein aata hai inhe dekhkar wo sahi bhi ya nahin. will wait for your reply @

    snikhil.hindustantimes@gmail.com

    ReplyDelete
  36. A beautiful piece of art...congrats

    ReplyDelete
  37. nice blog...wat a painting
    http://www.chattingu.blogspot.com/

    ReplyDelete
  38. अच्छी पेंटिंग है...तकरीबन सभी.....

    ReplyDelete
  39. aap kii sabhii pentig achchhii lagii, shubhakaamanaayen

    ReplyDelete
  40. http://kukiesbasket.blogspot.in/p/shareaway_02.html

    Thank you

    ReplyDelete
  41. udasi bhare,zaroori chitr.bhawon ko sahi roop m abhiwayakat kar rahen hain .sadhuwad

    ReplyDelete
  42. this is so good , the expressions are very meaningful.

    thanks for this work

    ReplyDelete